बड़ा खास है आज का दिन, चलो सेलिब्रेट करें

मेरी पहली नौकरी को कुछ ही दिन हुए थे। ऑफिस में एक सज्जन थे, जो काफी बड़े दारूबाज थे। उम्र में मुझसे ज्यादा बड़े नहीं थे। यूं ही परिचय हुआ। परिचय बढ़ते-बढ़ते कैंटीन में साथ चाय-वाय पीने तक पहुंच गया। एक दिन यूं ही तपाक से बोले – गुरु आज मेरी जिंदगी का बड़ा खास दिन है, आज शाम मेरे साथ चलो, सेलिब्रेट करते हैं।
मैंने पूछा – आज आपका जन्मदिन है क्या या आपकी शादी की सालगिरह। बोले – बच्चू, अभी तो मेरी शादी ही नहीं हुई है तो सालगिरह काहे की। मैंने पूछा – फिर...। बोले – आज कितनी तारीख है। मैंने बता दी। बोले – ये तारीख बड़ी खास है क्योंकि अब ये दोबारा लौटकर नहीं आएगी। साल भर बाद लौटकर तो आएगी, लेकिन तब साल बदल चुका होगा। इसलिए इस तारीख के हमेशा-हमेशा के लिए जुदा होने के गम और इस तारीख के जाने के हम गवाह रहे हैं, इस खुशी में इसे मनाना ज़रूरी है। मैंने कहा – आपको तो बस पीने का कोई न कोई बहाना चाहिए। खैर, मैं तीन और दोस्तों के साथ उस शाम उनके घर धमक गया। जमकर गाना-बजाना और पीना-पिलाना हुआ। सभी रात भर वहीं जमे रहे। सुबह अपने-अपने घर गए।
आज उनकी बात याद आ गई तो मैंने सोचा कि क्यों न हम भी आज की तारीख, 7 सितंबर 2007 को सेलिब्रेट कर लें। वाकई, पल-पल में जीना कितना सुखद होता है। शायद किसी गुरू ने भी कहा है कि हर दिन इस तरह जिओ कि ये तुम्हारी जिंदगी का आखिरी दिन है। हर दिन जन्म, हर दिन मौत। काश, कोई जिम्मेदारियां न होतीं तो हम भी बिंदास होकर हर दिन जीने-मरने का खुलकर अहसास कर पाते। दारू भले ही नहीं पीते, लेकिन अपने उस दारूबाज मित्र के अंदाज़ में हर पल का छककर मज़ा लेते।

Comments

नमन करता हूँ आपको.. आप किसी भी बात पर लिख सकते हैं.. और दमदार, शानदार लिख सकते हैं.. बहुत कुछ सीखता हूँ आप से..
Arun Arora said…
कहा आना है जी..यादगार बनाने...? :)
DesignFlute said…
मैं अभयजी से पूरी तरह सहमत हूँ.

सेलिब्रेट करने ही तो आते हैं हमेशा आपके ब्लोग पर!
अभय जी, सुबह-सुबह आपकी इस तारीफ से तो मैं फूल के कुप्पा हो गया। लेकिन कहीं थोड़ी ज्यादा ज़र्रा-नवाज़ी तो नहीं हो गई!
हम सभी जानते है कि जो समय चला गया उसकी वापसी संभव नही। लेकिन आपकी डायरी ने याद दिला दिया कि हर पल खास होता है। क्योंकि चाहे कुछ भी कर लो गुजरा पल वापस नहीं होता।

Popular posts from this blog

घोषणाएं लुभाती हैं, सच रुलाता है

मोदी, भाजपा व संघ को भारत से इतनी दुश्मनी क्यों?

चेला झोली भरके लाना, हो चेला...