Sunday 7 October 2007

...तो हमें देश की सुरक्षा से खतरा है

अपने यहां कुछ लोग व्यक्ति को ही देश मान लेते हैं। कभी ‘इंदिरा इज इंडिया’ कहा गया था तो कुछ लोग आज भी मोदी जैसे अदने-से नेता के विरोध को राष्ट्र-विरोध बता डालते हैं। लेकिन देश और उसकी सुरक्षा के लिए ज़रूरी शर्त है कि उसमें रह रहे आम लोग मान-सम्मान, मानवीय गरिमा के साथ निश्चिंत होकर सुंदर जीवन के लिए संघर्ष कर सकें। आज ज्यादा कुछ कहने-लिखने की स्थिति नहीं है तो पाश की एक कविता पेश है ताकि हम देश की धारणा की ज्यादा मानवीय सोच पर पहुंच सकें।

यदि देश की सुरक्षा यही होती है
कि बिना जमीर होना ज़िंदगी के लिए शर्त बन जाए
आंख की पुतली में ‘हां’ के सिवाय कोई भी शब्द अश्लील हो
और मन बदकार पलों के सामने दंडवत झुका रहे
तो हमें देश की सुरक्षा से खतरा है

हम तो देश को समझे थे घर-जैसी पवित्र चीज़
जिसमें उमस नहीं होती
आदमी बरसते मेंह की गूंज की तरह गलियों में बहता है
गेहूं की बालियों की तरह खेतों में झूमता है
और आसमान की विशालता को अर्थ देता है

हम तो देश को समझे थे आलिंगन-जैसे एक एहसास का नाम
हम तो देश को समझते थे काम-जैसा कोई नशा
हम तो देश को समझे थे कुर्बानी-सी वफा
लेकिन ‘गर देश आत्मा की बेगार का कोई कारखाना है
‘गर देश उल्लू बनने की प्रयोगशाला है
तो हमें उससे खतरा है

‘गर देश का अमन ऐसा होता है
कि कर्ज़ के पहाड़ों के फिसलते पत्थरों की तरह टूटता रहे अस्तित्व हमारा
और तनख्वाहों के मुंह पर थूकती रही कीमतों की बेशर्म हंसी
कि अपने ही रक्त में नहाना ही तीर्थ का पुण्य हो
तो हमें अमन से खतरा है

‘गर देश की सुरक्षा ऐसी होती है
कि हर हड़ताल को कुचलकर अमन को रंग चढ़ेगा
कि वीरता बस सरहदों पर मरकर परवान चढ़ेगी
कला का फूल बस राजा की खिड़की में ही खिलेगा
अक्ल, हुक्म के कुएं पर रहट की तरह धरती सींचेगी
मेहनत, राजमहलों के दर पर बुहारी ही बनेगी
तो हमें देश की सुरक्षा से खतरा है।।

4 comments:

आस्तीन का अजगर said...

किसी मुश्किल वक्त़ में पंजाब पर लिखी कविता किसी दूसरे वक्त़ में गुजरात पर कितनी मौजूं है. सबसे अजीब और मुश्किल बात ये नहीं हैं कि गुजरात के गौरव के नाम पर एक शख्स जैसे चाहे वैसे लोकतंत्र के लाइसेंस का इस्तेमाल करता रहा है, मुश्किल बात ये भी है कि गांधी और सरदार पटेल का गुजरात चूं तक नहीं करता इस सबके खिलाफ. न बहस, न मोर्चाबंदी. क्या ये थोड़ी अजीब बात नहीं है कि ऐसे संगठन भी जिनके एक तिहाई से ज्यादा मैंबर मुस्लिम औरतें हो, और अहमदाबाद के दंगों की सीधी शिकार, और वे गांधीवादी मूल्यों पर इठलाते संगठन भी कुछ नहीं कहते. कांग्रेस के पास एक भी ऐसा तर्क या चुनौती नहीं, जो नमो जैसे व्यक्ति, विचार, धूर्तता, हत्या में नहीं तो हत्या की साजिश में शामिल सरकार के मुख्यमंत्री के विरोध में चुनौती दे सकें. अगर लोकतंत्र गुजरात में दम तोड़ रहा है तो इसलिए कि वह लोगों के पास विकल्प लेकर नहीं जा पा रहा. और विकल्प नहीं होंगे तो नमो तीसरी बार चुने जाएंगे. इस समझ के साथ कि लोगों ने उनके कामकाज पर अपनी मुहर लगाई है. जो लोग चुप है, जो शर्मिंदा है, जो आहत हैं, जिनके लोग मारे गये हैं, जिनके इज्जतें सरे आम नीलाम हुई है, उनकी आवाज कोई नहीं बन पा रहा. कोई बड़ी कोशिश भी नहीं कर रहा. पूरा गुजरात एक गज़ब किस्म की व्यवहारकुशलता दिखला रहा है. खास तौर पर अहमदाबाद.

एक श्रीकांत वर्मा की कविता है (हालांकि वे कांग्रेसी थे, पर उन्हें कहां पता था कि उनकी कविता नरेंद्र मोदी के गुजरात में फिट बैठेगी... और कवि शायद मनुष्य पहले होता है, पार्टी मैंबर बाद में)

हस्तक्षेप
कोई छींकता तक नहीं
इस डर से
कि मगध की शान्ति
भंग न हो जाए
मगध को बनाये रखना है, तो,
मगध में शांति रहनी ही चाहिए

मगध है तो शांति है

कोई चीखता तक नहीं
इस डर से
कि मगध की व्यवस्था में
दखल न पड़ जाए
मगध में व्यवस्था रहनी ही चाहिए

मगध में न रही
तो कहां रहेगी ?

क्या कहेंगे लोग ?

लोगों का क्या ?
लोग तो यह भी कहते हैं
मगध अब कहने को मगध है
रहने को नहीं

कोई टोकता तक नहीं
इस डर से
कि मगध में टोकने का रिवाज न बन जाए

एक बार शुरू होने पर
कहीं नहीं रुकता हस्तक्षेप-

वैसे तो मगधवासियों
कितना भी कतराओ
तुम बच नहीं सकते हस्तक्षेप से-

जब कोई नहीं करता
तब नगर के बीच से गुजरता हुआ
मुर्दा
यह प्रश्न कर हस्तक्षेप करता है
मनुष्य क्यों मरता है ?

Sanjeeva Tiwari said...

भईया, आपकी कविता तथा आस्‍तीन वाले भाई की टिप्‍पणी दोनो जानदार मानो दोनों एक दूसरे के पूरक हों, धन्‍यवाद ।

'आरंभ' छत्‍तीसगढ का स्‍पंदन

Gyandutt Pandey said...

रोचक। जब नागरिक कम इण्डीवीजुअल ज्यादा महसूस करता हूं तब ऐसे भाव आते हैं।
आपका लेखन बहुत दमदार है।

बोधिसत्व said...

मैं कुछ लोगों पर कविता के क्षेत्र में घुसने पर रोक लगानेवाला हूँ....कुछ तो कवियों के लिए छोड़ दें प्रभु.....
अच्छा है