Monday 6 August 2007

खबर पर कुछ फुटकर विचार

मीडिया पर लिखते वक्त अचानक दिबांग के जाने की खबर मिल गई तो मैंने लिख मारा। लेकिन उस पर इतनी दबी हुई कुंठाएं जोर मारेंगी, इसका मुझे कतई अंदाजा नहीं था। मुझे लग रहा है जैसा मैंने बर्र के छत्ते में हाथ दिया। कुछ एनॉनिमस लोगों ने अपने बदनाम नाम को सही साबित करते हुए इतनी गालियां लिख मारीं कि मुझे कमेंट को मो़डरेशन में डालने का सिरदर्द पालना पड़ा। खैर, मैं साफ कर दूं कि न तो मैं मीडिया का कोई एक्सपर्ट हूं और न ही मैंनेजमेंट के गुरों का ज्ञानी। मैंने तो यूं ही अपनी कुछ अनुभवजन्य बातें लिख मारीं। इनसे कुछ लोग आहत हुए हों तो उनसे मैं तहेदिल से माफी चाहता हूं। हां, इतना ज़रूर है कि मैं चाहता हूं कि हिंदी टेलिविजन न्यूज़ में जो नॉन-प्रोफेशनल एटीट्यूड छाया हुआ है, उसे खत्म होना चाहिए।
लिखने के दौरान एसपी की बात महज क्षेपक की तरह आई थी। इस पर दिलीप मंडल की राय एकदम ठीक है कि, ‘एसपी ने कंटेंट से लेकर न्यूजरूम तक में बहुलवाद लाने के लिए कोशिश की। पुरानी जड़ता को तोड़ने की एक दमदार कोशिश थी, उनका समय। लेकिन वो एक खास स्थिति थी, जिसमें इस दिशा में कुछ कदम बढ़ाए जा सके। ना इतने से कम ना इतने से ज्यादा।’
लेख की पहली ही कड़ी पर संजय तिवारी जी ने सवाल उठाया था कि खबर क्या है? वह जिसे टीवी दिखाता है या फिर वह जिसे टीवी नहीं दिखाता है। सचमुच ये बड़ा सवाल है। जुबां पे सच - दिल में इंडिया, खबर वही जो सच दिखाए, आपको रखे आगे, हकीकत जैसी खबर वैसी...जैसे स्लोगन महज स्लोगन भर हैं। जिस चैनल के लिए जो सुविधाजनक होता है, वह वैसी ही खबरें दिखाता है।
मुझे याद है कि लालू का ‘धांसू’ इंटरव्यू करने के बाद लौटे दिबांग ने कहा था, ‘हमारे चैनल पर लालू के खिलाफ कोई खबर नहीं चलेगी।’ कोई नई फिल्म रिलीज होती है तो उसके हीरो-हीरोइन स्टूडियो में आकर जम जाते हैं। काजोल या आमिर का जन्मदिन हो, या बिग बी के परिवार की कोई बात...टीवी चैनल इस अंदाज में दिखाते हैं जैसे यही लोग आज के राष्ट्रनायक हैं। अभिषेक और ऐश्वर्या की शादी के स्लॉट तीन हफ्ते पहले ही बिक जाते हैं, विज्ञापनदाता तय हो जाते हैं, विज्ञापन की दरें तय हो जाती हैं। आखिर न्यूज चैनल है कोई खैरात-खाना तो है नहीं। खबर वही है जिससे शॉर्ट टर्म और लांग टर्म में कमाई हो सके। इसलिए असली नारा यही है कि खबर वही जो कमाई कराए।
तेजी से बदलते इस दौर में हमारी ज़िंदगी पर असर डालनेवाली हर नई सूचना खबर है। फिर चाहे वो कोई नई सरकारी पॉलिसी हो या बाज़ार में आया नया प्रोडक्ट। अगर खबर आती है कि अब बिजली के तारों पर आपके घर इंटरनेट पहुंच जाएगा तो ये यकीनन बड़ी खबर है। लेकिन गंभीर खबर के नाम पर हमें गोवा विधानसभा में कांग्रेस का शक्ति-पीरक्षण दिखाया जाता है, जबकि उसी समय नोएडा में इंजीनियरिंग का एक छात्र अध्यापकों के परेशान करने के बाद खुदकुशी कर चुका होता है। मेरा मानना है कि इंजीनियरिंग के छात्र की खुदकुशी की पड़ताल करना एक बेहद सकारात्मक विकास है। ये बहुत अच्छी बात है कि टीवी की खबरों का दायरा आज राजधानियों से निकलकर छोटे शहरों-कस्बों और घरों तक पहुंच चुका है।
आज मटुकनाथ के प्रेम से लेकर बहुओं द्वारा व्यभिचारी ससुर की पिटाई जैसी खबरें हमारे जीवन में लोकतांत्रिक मू्ल्यों पर बहस को जन्म देने का बहाना बन रही हैं। प्रिंस का गड्ढे से निकाला जाना टीवी के लाइव कवरेज की वजह से पूरे देश को एकजुट कर देता है, इंदौर में आईआईएम के डूबे हुए छात्रों की कहानी प्रशासन को जवाबदेह बनाने का ज़रिया बन जाती है। बदलाव का रास्ता किसी के दिमाग के संकरी नसों से नहीं निकलता। सच्चाई की ऊबड़-खाबड़ गलियों से ही बदलाव की राह निकलती है।

3 comments:

Pramod Singh said...

सही फरमाते हैं, दोस्‍त..

Udan Tashtari said...

सच्चाई की उबड़-खाबड़ गलियों से ही बदलाव की राह निकलती है।


--बिल्कुल सही कहा आपने.

Sanjeet Tripathi said...

सही!!