Thursday 26 July 2007

पांच साल तक यहीं विराजेंगे क्या?

नई राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल के विस्तृत परिवार के बीच दांतों में जीभ से फंसे पूर्व राष्ट्रपति ए पी जे अब्दुल कलाम। कहीं ऐसा न हो कि प्रतिभा ताई का पूरा कुनबा, चंटी-पिंकी-बबली... आदि-इत्यादि पांच साल तक उनके राजसी सुख का आनंद लेने के लिए यहीं जमे रहें। तब तो राष्ट्रपति भवन के 354 एकड़ के परिसर और 340 कमरों में जमकर धमा-चौकड़ी मचती रहेगी।
फोटो साभार- इंडियन एक्सप्रेस

2 comments:

sanjay tiwari said...

रहें तो अच्छा ही है. कम से कम थोड़ी रौनक तो रहेगी. इस वायसराय हाउस से अब भारत को अपनी पहचान अलग कर लेनी चाहिए. इसे सार्वजनिक संपत्ति घोषित कर जनता के दर्शन के लिए खोल देना चाहिए.

जिस देश के 26 करोड़ लोग 12 रूपये से भी कम रोज कमाते हों उसके राजा को ऐसे आलीशान घर में रहने का कोई नैतिक हक नहीं है.

A line of Literature said...

jiyo mere lal,Kar diya kaml
writing exceptionally on current topics, Mixing thougts with sentiments.
reading all your Blogs regularly.
with Frinds & family.
keep writing.
yours, deepak Rewa