Thursday 15 November 2007

कुंडलिनी जगाने से कम नहीं है लिखना-पढ़ना

हम आखिर चाहते क्यों है कि हमारा लिखा हुआ हर कोई पढ़े? क्या हमारे पास चकमक की ऐसी चिनगारियां हैं जिनको पाकर दूसरे के ज्ञान-चक्षु खुल जाएंगे? तो क्या खुद हमारे ज्ञान-चक्षु खुले हुए हैं? हम में से ज्यादातर को शायद ऐसा ही लगता है। लेकिन ऐसा है भी और नहीं भी है क्योंकि हम में से हर किसी के पास ऐसा कुछ होता है जो दूसरों के पास या तो होता नहीं, या आपसी संवाद न होने के चलते किसी और के पास उसके होने का पता नहीं चलता। दोनों ही स्थितियों में अपनी बात कहना न तो कोई शेखी बघारना है और न ही आत्म-प्रदर्शन। असल में हमारे पास एक ही सत्य के बड़े नहीं, तो चिंदी-चिंदी अंश ज़रूर हैं। अगर हमें इन्हें दिखाने की बेचैनी है तो इससे यही साबित होता है कि हमारे समाज में संवादहीनता की स्थिति कितनी विकट हो गई है।

यकीनन, हम में से हर कोई एक हद तक आत्ममोह या सम्मोहन का शिकार होता है। हम कभी-कभी घरवालों और मित्रों से वही बात कहने लग जाते हैं जो पहले भी कई बार कह चुके होते हैं। लेकिन इससे भी संवादहीनता की ही स्थिति की पुष्टि होती है। ब्लॉग पर लिखना आज आपसी संवाद कायम करने का एक ज़रिया बन गया है। यह लिखना जितना ज्यादा बढ़ेगा, संवाद की स्थिति उतनी ही बढ़ती जाएगी। संवाद जितना बढ़ेगा, आत्म-सम्मोहन की स्थिति उतनी ही जर्जर होगी और एक कालखंड व देश-समाज में रहते हम सभी लोग किसी समान सत्य के करीब पहुंचते जाएंगे।

असल में हम पूरी जिंदगी संवेदनाओं और अनुभूतियों के अलग-अलग ऑरबिट/चक्रव्यूह से गुजरते रहते हैं। हर मंजिल पर चक्रव्यूह के सात नहीं, अनेक द्वार होते हैं। जैसे ही एक व्यूह के सारे द्वार तोड़कर हम कामयाब होने का उल्लास मना रहे होते हैं, तभी अचानक दूसरा चक्रव्यूह सामने आकर खड़ा हो जाता है। यह कुछ वैसा ही है जैसा हमारे योग-विज्ञान में कुंडलिनी को जाग्रत करने के बारे में कहा गया है। मूलाधार से सहस्रार चक्र तक की यात्रा में कुंडलिनी को सात से नौ चक्र तोड़ने होते हैं। तब कहीं जाकर खुलता है ज्ञान-चक्षु और खिलता है सहस्र दलों वाला कमल। वैसे, इस तुलना को हमारे संजय भाई ज्यादा अच्छी तरह व्याख्यायित कर सकते हैं।

लेकिन अक्सर ऐसा भी होता है कि हमारे कई मित्र इस अनंत यात्रा के दौरान कहीं बीच में ही ठहर जाते हैं। वो पूरे ‘कॉमरेड’ बन जाते हैं। उन्हें लगता है कि उन्होंने अपने अंदर ज्ञान का इतना भंडारण कर लिया है कि अब उन्हें बस इसे फू-फू करके उड़ाना भर है। उनके पास सारे सवालों के जवाब हैं। दूसरे जब उनकी बात नहीं समझते तो उन्हें लगता है कि जनता इतनी नासमझ है तो हम क्या, कोई भी इसका कुछ नहीं कर सकता। अपने अंदर आते इसी ठहराव को निरंतर तोड़ने की ज़रूरत पड़ती है। बराबर आत्म-निरीक्षण और आत्मालोचना के साथ ही खुद को औरों के आइने में परखने की ज़रूरत होती है।

हां, इतना ज़रूर है कि योगियों की तरह अंदर पैठने से हम सच तक कभी नहीं पहुंच सकते, सच के नाम पर भ्रम का चोंगा ज़रूर ओढ़ सकते हैं। हम जितना बाहर जाएंगे, उतना ही अपने अंदर पहुंचेंगे क्योंकि बाहर का हर बदलाव हमारे अंदर की दुनिया को छेड़ता है, कुछ नए तथ्य पैदा करता है तो कई पुराने सत्य उद्घाटित करता है। जो कुछ बाहर है, वही हमारे अंदर है। हम जैसा सोचते हैं, दुनिया वैसी नहीं होती। बाहरी दुनिया से ही हमारा आंतरिक संसार बनता है। हम ज़माने से हैं। ज़माना हम से कतई नहीं है।

12 comments:

काकेश said...

हम तो सोचते थे कि आप जैसे लोगों के लिये लिखना बहुत आसान होता होगा.हम जैसे मूर्खों के लिये लिखना हमेशा से कठिन रहा है हाँ पढ़ने में कोई तकलीफ़ नहीं होती..बस समय होना चाहिये.

मीनाक्षी said...

अनिल जी , सच कहा कि संवाद जितना बढ़ेगा आत्म सम्मोहन की स्थिति उतनी ही जर्जर होगी. मेरे लिए ब्लॉग संवाद का ही नही बल्कि अपने आप को परखने का भी सशक्त माध्यम है.

Gyandutt Pandey said...

ब्लॉग लेखन की शुरुआत मोनोलॉग के रूप में होती है। पर वह डायलॉग में कब कैसे रूपांतरित हो जाता है; (आप अगर ऑब्जर्व न करें ध्यान से तो) कई बार पता ही नहीं चलता।

Sanjeet Tripathi said...

सटीक, शानदार विश्लेषण!

मनीषा पांडेय said...

आत्‍मालोचना और सत्‍य और भ्रम के अंतर्विरोधों के बारे में और लिखिए। यह हमारे समय की बड़ी जरूरतों में से है।

who cares... said...

बहुत उम्दा कहा अनिल जी, लोगो को ये समझ्ने मे जमाने लग जाते है कि वो जमाने से है, जमाना उनसे नही़.

मनीषा पांडेय said...

कहां गायब हैं हुजूर, दो दिन से कुंडलिनी ही जगा रहे हैं। जग गई हो तो आगे की पोस्‍ट भी लिखें।

काकेश said...

अब तो 5-6 दिन हो गये जी. जगी कि नहीं. ..एक बार तो आदत लगा दी अच्छे लेखों की और फिर बिना बताये निकल लिये कुन्डलिनी जगाने. कब आ रहे हैं जी वापस. हम प्रतीक्षा में हैं.

मीनाक्षी said...

आशा है आप सकुशल होंगे. ब्लॉग जगत आपका इंतज़ार कर रहा है.लगता है आप कुछ नया लेकर आ रहे हैं.

आनंद said...

इन्‍तेहां हो गई इंतज़ार की !!!

इष्ट देव सांकृत्यायन said...

अरे भाई कब तक जगाते रहिएगा कुण्डलिनी?

मनीषा पांडेय said...

क्‍या बात है अनिल जी। सब कुशल-मंगल तो है। कहां नदारद हैं।